आँख में दर्द के उपचार

आँख में दर्द के उपचार

आँख में दर्द के उपचार

आँखों का दर्द एक सामान्य लक्षण है, जिसके कारण डॉक्टर से परामर्श लेना पड़ सकता है। आँखों के दर्द विभिन्न प्रकार के हो सकते हैं-जैसे-जलन, चुभन, आँखों में कुछ पड़ जाने जैसी अनुभूति, दर्द, फड़कन, या अचानक उठनेवाला तेज दर्द आदि। आँखों में दर्द के लक्षण सिरदर्द एवं साइनस के लक्षणों से मिलते हैं, इसलिए आपके लिए इनके बीच अंतर करना कठिन हो सकता है।

कारण

कई रोगों के कारण आँखों या इसके आसपास दर्द हो सकता है। अगर आपका दर्द स्थायी और तीव्र हो, या इसके साथ आँखों की रोशनी कम हो गई हो तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। आँखों के दर्द के कुछ आम कारण हैं-

कंजक्टिविटी(पिंक आई) या पलकों का सूजन
कॉन्टेक्ट लेंस कम्पलीकेशन्स
आँखों में बाहरी किसी चीज का होना
संक्रमण, चोट या कोई अन्य तकलीफ
कार्नियल पर चोट या घाव (बाहरी कोई चीज, घर्षण)
आँखों की सर्जरी
ग्लूकोमा (आँखों पर दबाव बढना)
माइग्रेन का दर्द
साइनस
जल जाना
पलक पर फुंसी (होर्डिओलम)
लक्षण

आँखों के दर्द की तीव्रता भिन्न-भिन्न हो सकती है, और प्रत्येक व्यक्ति इस दर्द से अलग-अलग सीमा तक प्रभावित हो सकते हैं। आँखों की समस्या से पीड़ित लोगों में निम्नलिखित लक्षण मिल सकते हैं-

आँख या इसके आस-पास दर्द
द़ष्टि कमजोर पड़ना (आंशिक रूप से या पूर्णतः)
प्रकाश के प्रति संवेदनशीलता
दो-दो चीजें दिखना
प्रकाश स्रोत के चारों ओर प्रकाशवृत्त दिखना
हवा में बुलबुले, धब्बे या छाया दिखना
आँखों को घुमाने में अक्षमता
आँखों को घुमाने में दर्द
प्रकाश की कौंध या धारियां दिखना
आँख के दर्द के साथ तेज सिरदर्द
जांच और रोग की पहचान

डॉक्टर के लिए आपके दर्द के कारणों की पहचान के लिए रोगी के पहले के चिकित्सकीय और अन्य परिस्थितियों की जानकारी आवश्यक होती है। डॉक्टर आपसे पूछ सकता है कि दर्द कब शुरू हुआ, कहां दर्द है, कितनी देर तक रहता है, किस वजह से दर्द बढता या घटता है, क्या आप कॉंन्टेक्ट लेंस का उपयोग करते हैं; आँखों में चोट या सर्जरी का अगर कोई इतिहास रहा हो तो उससे संबंधित तथ्य भी पूछा जा सकता है। आपके डॉक्टर आँखों की जांच सहित पूरी शारीरिक जांच करेगें, जैसे-आपकी दृष्टि, आँखों और इसके आस-पास के ऊतकों का निरीक्षण, आँखों की गति, दृष्टि क्षेत्र(परिधीय दृष्टि), पुतली का प्रकाश से प्रतिक्रिया। आपके इतिहास औऱ परीक्षणों के आधार पर डॉक्टर इनमें से कुछ या सभी की सलाह दे सकते हैं-

ऑप्थेल्मोस्कोप के द्वारा आँखों की जांच-आँखों के पीछे देखने के लिए। इससे ऑप्टिक डिस्क औऱ रक्त नलिकाएं देखी जा सकती हैं।
स्लिट लैंप परीक्षणः यह एक सूक्ष्मदर्शी है, जिससे आँख की सतह को गौर से देखा जा सकता है, जैसे-कॉर्निया का घर्षण या अल्सर/घाव होना।
अगर ग्लूकोमा का संदेह हो तो स्लिट लैंप या टोनोपेन् नाम के उपकरण पर टोनोमीटर लगाकर इसकी मदद से अपनी आँखों पर दबाव की जांच करें।
आँखों में दर्दनिवारक दवा की एक बूंद डालकर इसका परीक्षण करें। अगर आँखों की सतह पर दर्द हो तो यह दर्द ठीक हो जाएगा, जबकि अगर दर्द आँखों की भीतरी संरचना में हो तो यह ठीक नहीं होगा।
फ्लोरेसिन जांचः इस जांच में आँख में फ्लोरेसिन नाम का एक रंजक डाला जाता है, जिससे घर्षण, घाव या कॉर्निया में किसी तकलीफ का पता लगाया जा सके।
उपचार

आँख के दर्द के पीछे पलकों पर हुई छोटी सी फुंसी से लेकर गंभीर समस्याएं, जैसे-ग्लूकोमा या कोई दूसरी बड़ी समस्या तक हो सकती है। चिकित्सा रोग की स्थिति पर निर्भर करता है औऱ नेत्ररोग विशेषज्ञ इसे सबसे सही समझ सकता है।

कंजक्टिवाइटिस(पिंक आई या आँख लाल होना)-बैक्टीरिया या वायरस से हुए संक्रमण में अंतर करना कठिन है, इसलिए संक्रमण की आशंका होने पर आई ड्रॉप, मल्हम, और दर्द की दवाओं से इसका इलाज किया जाता है। एलर्जी से कंजक्टिवाइटिस होने पर इसके इलाज में एंटीहिस्टामिन, या दूसरी एंटीएलर्जिक आई ड्रॉप का उपयोग किया जाता है।
कॉर्नियल घर्षण या घावः एंटीबायोटिक आई ड्रॉप(संक्रमण रोकने के लिए), आँखों का मल्हम, और दर्द की दवाएं काम में लाई जाती हैं।
आँखों में बाहरी चीजः आँख…