कहीं जकड़ न ले कंधों का दर्द

कहीं जकड़ न ले कंधों का दर्द

कहीं जकड़ न ले कंधों का दर्द

फ्रोजन शोल्डर की चिकित्सा में सबसे पहले इस बात पर ध्यान दिया जाता है कि कंधों की जकड़न को कम कैसे किया जाये। ऐसा माना जाता है कि हाथों और कंधों के जोड़ पर कटोरीनुमा हड्डी में सूजन के कारण ऐसा दर्द होता है। ऐसे दर्द की चिकित्सा के लिए फिजियोथेरेपी सबसे अच्छा उपाय है। बीमारी के शुरुआती दिनों में दर्द रात को तीव्र होता है और धीरे-धीरे दिन में भी रहने लगता है। फ्रोजन शोल्डर की चिकित्सा के लिए कई उपाय अपनाए जा सकते हैं। इन उपायों में से कुछ सिर्फ तात्कालिक आराम देते हैं और कुछ लंबे समय के बाद। मुख्य रूप से फ्रोजन शोल्डर की चिकित्सा के दो मुख्य उपाय हैं।
दवाओं का प्रयोग

सामान्य कंधों के दर्द में दर्द निवारक दवाओं से ही राहत मिल जाती है। ऐसा दर्द कंधों में सूजन के कारण होता है, इसलिए सूजन कम करने वाली दवाएं भी राहत पहुंचा सकती हैं। लेकिन गंभीर स्थिति में दर्द निवारक दवाएं सिर्फ तात्कालिक आराम देती हैं।
फिजियोथेरेपी

फ्रोजन शोल्डर की चिकित्सा का सबसे अच्छा माध्यम फिजियोथेरेपी माना जाता है और इसका लक्ष्य होता है कंधों में खिंचाव उत्पन्न कर कंधों को दोबारा गति में लाना। ऐसा करने के लिए कंधों के विभिन्न बिंदुओं को व्यायाम द्वारा धीरे-धीरे सामान्य स्थिति में लाने का प्रयास किया जाता है। लक्षण कंधों को घुमाने में असमर्थता महसूस होना
रात में कंधों में तीव्र दर्द होना
कंधों का सुन्न पड़ जाना
दर्द से कैसे बचें

कंधों को गर्म या ठंडा सेक दें
दर्द से जल्द आराम के लिए एक्यूपंर चिकित्सा का सहारा लें
फिर भी आराम न मिलता हो तो सर्जरी से घबराएं नहीं
सावधानी

फ्रोजन शोल्डर की चिकित्सा समय पर नहीं की गई तो मरीज को पूरा जीवन इस समस्या के साथ बिताना पड़ सकता है। ऐसे में मरीज को हाथों को हिलाने-डुलाने का हर संभव प्रयास करना चाहिए। जितनी जल्दी हो सके चिकित्सीय सलाह लेनी चाहिए और दर्द की दवाओं के बेधड़क प्रयोग से बचना चाहिए।